Admission Rules

  • प्रवेश कार्य एवं महाविद्यालय व्यवस्थित ढंग से चले इसके लिए छात्राऎ का सहयोग अपेक्षित है। छात्राएँ कॉलेज नियमों का पालन करें।
  • ऐच्छिक विषयों को भरते समय अच्छी तरह विचार कीजिए, और फिर भरिये। शुल्क जमा कराने के पश्चात् विषय परिवर्तन नहीं होगा।
  • एक बार जमा कराये गये फार्म व शुल्क लौटाए नहीं जाएंगे।
  • यदि आपने माध्यमिक बोर्ड़, राजस्थान अथवा राजस्थान से इतर बोर्ड़ से परीक्षा उत्तीर्ण की है तो अपना “माइग्रेशन“ प्रमाण-पत्र सितम्बर तक अवश्य जमा करा दें। यदि यह प्रमाण-पत्र उचित समय तक नहीं जमा करवाया गया तो नियमानुसार विलम्ब शुल्क विश्वविद्यालय को देय होगी। यदि दिसम्बर तक भी आपने यह प्रमाण-पत्र नहीं दिया तो आपको विश्वविद्यालय परीक्षा में बैठने से रोक दिया जायेगा तथा प्रवेश निरस्त कर दिया जायेगा।“
  • किसी भी प्रकार की फीस या जुर्माने की धनराशि कैशियर को ही जमा करायें और रसीद प्राप्त करें। सारी रसीदे संभाल कर रखें। वर्ष के अंत में “ अदेय प्रमाण-पत्र “ (नो ड्यूज़) के समय उनकी आवश्यकता होगी।
  • छात्राएँ फीस जमा कराने के 15 दिन के अंदर ही अपना नाम अपने-अपने विषय की कक्षाओं में रजिस्टर में नोट करवा लें, अन्यथा प्रवेश निरस्त कर दिया जायेगा।
  • आवेदन पत्र प्राप्ति: प्रवेश के लिए निर्धारित प्रपत्र पर आवेदन करना होगा, जो इस विवरण पत्रिका के साथ कार्यालय से रूपये 200/- नगद देकर प्राप्त किया जा सकता है। डाक से मंगाने पर रू.50/-अतिरिक्त भेजने होंगे।
  • पूरक परीक्षा में प्रविष्ट होने वाली छात्राओं के लिए:-
    • (अ) राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड़ की पूरक परीक्षा में प्रविष्ट होने वाली छात्राओं को भी उपर्युक्त निर्धारित तिथि तक उच्च कक्षा में प्रवेश ले लेना चाहिए।
    • (आ) पूरक परीक्षा की अंक तालिका प्राप्त होते ही मूल प्रति के साथ उसकी दो सत्यापित प्रतिलिपियाँ तुरन्त कार्यालय में जमा करानी होगी अन्यथा प्रवेश रद्द हो जायेगा।
    • (इ.) प्रवेश हेतु पूरक परीक्षा के वास्तविक प्राप्तांकों के स्थान पर केवल न्यूनतम उत्तीर्णांक ही योग्यता सूची के निर्धारण में मान्य होंगे।
  • आवेदन करने पर, प्राचार्य की अनुमति से पन्द्रह दिन तक संकाय अथवा ऐच्छिक विषय में परिर्वतन किया जा सकता है।
  • प्रवेश के लिए न्यूनतम पात्रता:-
    • (अ) बी.ए., बी. एससी., बी.कॉम., प्रथम वर्ष में प्रवेश हेतु देश के किसी भी मान्य बोर्ड़ ऑफ सीनियर सैकण्डरी एज्यूकेशन से उच्च माध्यमिक परीक्षा में उत्तीर्ण होना आवश्यक है। द्वितीय वर्ष में प्रवेश राजस्थान के विश्वविद्यालय से प्रथम वर्ष परीक्षा उत्तीर्ण होना चाहिये।
    • (ब) राजस्थान विश्वविद्यालय एवं कॅालेज शिक्षा आयुक्तालय द्वारा प्रवेश हेतु न्युनतम पात्रता में किसी भी प्रकार की छूट संभव नहीं होगी।
    • (स) किसी भी छात्रा का महाविद्यालय में प्रवेश तभी पूर्ण होगा जब उसने सभी प्रकार के शुल्क जमा करा दिये हों, विश्वविद्यालय से उसका नामांकन हो गया हो, और विश्वविद्यालय ने उसके प्रवेश की स्वीकृति दे दी हो।
    • (द) छात्रा का दायित्व है कि महाविद्यालय का शुल्क चुकाते ही प्रत्येक विषय की प्राध्यापिका की उपस्थिति पंजिका में अपना नाम लिखवा ले। प्राध्यापिका की उपस्थिति पंजिका में छात्रा का नाम केवल प्रवेश-पत्र के आधार पर ही लिखा जायेगा।
    • (य) महाविद्यालय के प्राचार्य को यह अधिकार होगा कि वह संस्था के शैक्षणिक हित में किसी प्रवेशार्थी को बिना कारण बताये प्रवेश के लिए मना कर दे, महाविद्यालय से निष्कासन कर दें या प्रवेश रद्द कर दें।